दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऑड-ईवन को लेकर बड़ा ऐलान किया है. 4 से 15 नवंबर के बीच यह नियम एक बार फिर दिल्ली में लागू कर दिया जाएगा. ऑड-ईवन रिटर्न स्कीम को लेकर सीएम केजरीवाल ने कहा कि नवंबर के महीने में दिल्ली के आस-पास के राज्यों में पराली जलाई जाती है, इस वजह से दिल्ली गैस चेंबर बन जाता है. इसलिए एक बार फिर सरकार ने ऑड-ईवन फॉर्मूले को लागू करने का फैसला किया गया है.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि हम प्रदूषण को रोकने के लिए केंद्र और पंजाब सरकार के साथ अपने स्तर पर काम कर रहे हैं, लेकिन दिल्ली सरकार हाथ पर हाथ धरकर नहीं बैठ सकती है. उन्होंने कहा कि पिछले वर्षों में नवंबर के महीने में ऑड-ईवन को लागू करने से राज्य में प्रदूषण काफी कम हुआ है. दिल्ली एक ऐसा राज्य है जहां प्रदूषण कम 25 फीसदी कम हुआ है, सरकार की कोशिश है कि इसे और भी कम किया जाए.

साथ ही केजरीवाल ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि दीवाली पर पटाखों की वजह से ज्यादा धुंआ होता है, ऐसे में दिल्ली के लोगों को अपील करते हुए केजरीवाल ने कहा कि पटाखे ना जलाएं. इसके अलावा उन्होंने बताया कि  प्रदूषण से संबधित शिकायतों का निपटारा करने के लिए वॉररूम भी बनाया जा रहा है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि लगभग 1200 ई-मेल और कई विशेषज्ञों से सलाह मशविरे के बाद सरकार ने दिल्ली के प्रदूषण से निपटने के लिए योजना बनाई है. दिल्ली सरकार सामूहिक तौर पर प्रदूषण-मुक्त दीवाली मनाएगी. नवंबर में फिर ऑड-ईवन योजना लागू होगी. दिल्ली सरकार अक्टूबर से लोगों को मुफ्त मास्क उपलब्ध कराएगी.