राजस्थान के हाड़ौती में लगातार हो रही बरसात से इलाके में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं. मिली जानकारी के मुताबिक बीते 24 घंटो में बारिश से जुड़े हादसों में 5 लोगों की मौत हो चुकी है. तो वहीं कोटा के कैथून में जल जमाव से उत्पन्न हुई स्थिति से निपटने के लिए सेना की मदद ली जा रही है. भारी बारिश के चलते हाड़ौती क्षेत्र के बारां, भीलवाड़ा, झालावाड़ और बूंदी में भी हालात गंभीर बने हुए हैं.

मौसम विभाग के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के पूर्वी हिस्सों में भारी बारिश दर्ज की गई है. सिर्फ राजस्थान ही नहीं उत्तराखंड में भी बाढ़ का कहर देखने को मिल रहा है. रूद्रप्रयाग का नमामि गंगे घाट पूरी तरह से जल मग्न है.यहां स्थित भगवान शिव की 25 फीट ऊंची प्रतिमा पानी में डूबी हुई है. मूर्ति का सिर्फ 3 फीट का ऊपर का हिस्सा ही दिखाई दे रहा है.

उत्तराखंड ही नहीं बल्कि पंजाब में भी अगले 48 से 72 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी दी गई है. मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य के सभी अफसरों को हालात पर नज़र बनाए रखने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने अपने आदेश में कहा है कि बारिश से प्रभावित होने वाले इलाकों में लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने का इंतज़ाम किये जाएं.

गौरतलब है कि भारी बारिश और बाढ़ से केरल में अब तक 111,मध्य प्रदेश में 70, महाराष्ट्र में 54, राजस्थान में 5 और आंध्र प्रदेश में 1 व्यक्ति की मौत हो चुकी है. तो वहीं केरल में 31 लोग अब भी लापता है. जबकि 1.47 लाख से अधिक लोग राहत शिविरों में हैं. महाराष्ट्र के सांगली और कोल्हापुर जिलों में भी बाढ़ से लोगों का बुरा हाल है. जहां अब तक 7 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.