लॉक डाउन के बाद अब आये दिन हमें डकैतियों की बहुत सारी कहानियाँ सुनने को मिल रही हैं, यहाँ हम अपने पाठकों के लिए सतर्क रहने और चौकस रहने के लिए एक डकैती को साझा कर रहे हैं ताकि आप किसी अनहोनी से बचें।

घटना के मुताबिक़, एक किरायेदार की माँ डॉक्टर के पास आज डॉक्टर कॉलोनी के गेट के बाहर बुजुर्ग सरदार जी से मिलीं जो द्वारका जाने के लिए किराया माँगते हैं। वे उसे 50 रु देती हैं। सरदार जी कार के अंदर झांकते हैं और फिर अपने साथियों को इशारे से बुलाते हैं जो 100 गज की दूरी पर खड़े हैं उनके साथी आकर कार को रोकते हैं और ड्राइवर को बताते हैं कि डिक्की से धुआं / आग निकल रही है।

ड्राइवर देखने के लिए बाहर निकलता है। इस बीच वे पीछे का दरवाजा खोलते हैं और महिला का पर्स छीन लेते हैं। ड्राइवर उनके पीछे दौड़ता है। एक और कार दिखाई देती है। लुटेरों ने चालक को पकड़ लिया और उसे अंदर धकेल दिया। पर्स में 25000, क्रेडिट कार्ड और लॉकर की चाबी थी।
FIR दर्ज करने के लिए पुलिस स्टेशन NF कॉलोनी गए। वहाँ पहले से ही एक अन्य शिकायतकर्ता के साथ ऐसा ही हुआ ,जहां उन्होंने स्नैचिंग से पहले उसे निष्क्रिय करने के लिए एक स्प्रे का इस्तेमाल किया।

सिड भी पिछले हफ्ते उसी सरदार जी के संपर्क में आया था लेकिन वो बाख गया।

पाठकों से हमारा निवेदन है कि कभी भी बाजार में जाएँ तो सावधानी रखें| आपके शॉपिंग बैग और हैंडबैग डैकैतों को आकर्षित करते हैं। बाज़ार में सावधान रहें|

अपने ड्राइवरों को भी बताएं …

चाहे आप कार में हों या वह अकेले कहीं जा रहा हो या बाजार से खरीदारी करने के लिए आ रहा हो, कार के किसी भी हिस्से या टायर आदि से आग लगने का दावा कोई करे तो बहार न आये जब तक उसको खुद तसल्ली न हो।

जिस क्षण ड्राइवर बाहर निकलता है, डैकैत माल और हैंडबैग के लिए उस पर और यात्री पर हमला कर देते हैं।