शाकिर शेख

शाजापुर ब्यूरो। शहर कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रहे इस हेतु प्रशासन द्वारा कई तरह के जतन किये जा रहे है। पिछले पखवाड़े ही प्रशासन द्वारा शहर के 29 वार्डो में घर-घर सर्वे करवा कर जांच की थी तथा इस दौरान जो व्यक्ति अन्य जिलों से आया था उसे होम क्वारंटाइन कर उसके मकान के बाहर होम क्वारंटाइन का पेम्पलेट लगा दिया गया था। अभी वर्तमान में पुनः सर्वे टीम द्वारा घर-घर जाकर कोरोना सर्वे किया जा रहा है। वहीं बाहर से आए लोगों को होम क्वारंटाइन किया जा रहा है, लेकिन कुछ लापरवाह लोग होम क्वारंटाइन का पालन नहीं करते हुए घरों से बाहर शहर में घूम रहे हैं, और यह लोग शहर के लोगों के लिए बड़ी परेशानी का सबब बन सकते हैं। अभी वर्तमान में शहर सुबह के समय इन्दोर, उज्जैन ओर भोपाल जैसे रेड जोन एरिया से बड़ी संख्या में इन अप्रवासियों का शहर में आना जारी है, ये सुबह 5 और 6 के बीच शाजापुर पहुच जाते है। अगर प्रशासन ने समय रहते इन पर प्रतिबंध नही य ऐसे लोगो पर कोई कार्यवाही नहीं कि तो ये लापरवाही शहर के लिए घातक सिद्ध होंगी। विगत शुक्रवार 29 मई को शहर में पुणे से कुछ लोग आए थे। जिन्हें सर्वे टीम द्वारा होम क्वारंटाइन किया गया था। साथ ही परिवार के घर के बाहर रेड रंग का पेम्पलेट भी संकेतक के रूप में चस्पा किया गया था, परन्तु उक्त परिवार के सदस्यों ने सर्वे टीम के जाते ही पर्चे को फाड़ दिया और लोगों को मुसीबत में डालने के लिए शहर की सडक़ों पर बेशर्मों की तरह घूमने लगे। इतना ही नही जब स्थानीय लोगों ने परिवार के सदस्यों को समझाने का प्रयास किया तो वे विवाद पर उतारू हो गए, हालांकि जब इस बात की सूचना स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को लगी तो उन्होने मौके पर पहुंचकर संबंधित परिवार के घर के बाहर दोबारा से चेतावनी चस्पा की और परिवार के लोगों को होम क्वारंटाइन का पालन करने के लिए कहा गया। उल्लेखनीय है कि शहर में अन्य राज्यों एवं जिलों से लोगों के आने का सिलसिला जारी है और कारोना सर्वे टीम घर-घर जाकर बाहरी लोगों के पता लगाकर उन्हें होम क्वारंटाइन भी कर रही है, किंतु कुछ समाज के दुश्मन क्वारंटाइन का पालन नहीं करते हुए स्वयं के साथ परिवार और शहर के लोगों की जान पर भी खतरा बनकर मंडरा रहे हैं। प्रशासन द्वारा समाज के इन लापरवाह लोगों की अनदेखी न करते हुवे सख्ती से क्वारंटाइन का पालन कराया जाना चाहिए, ताकि जिले में दोबारा कोरोना दस्तक नही दे सके।